Tuesday, May 28, 2024
Homeजांजगीर चांपाजांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र के कांग्रेसपार्टी से त्यागपत्र देकर बीजेपी में शामिल...

जांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र के कांग्रेसपार्टी से त्यागपत्र देकर बीजेपी में शामिल होने वाले नेताओं की हो रही है भारी किरकिरी

जांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस को झटका जरूर लगा है पर कांग्रेस के पास वर्तमान में खोने के लिए कुछ भी नहीं जबकि भाजपा के पास अपने सम्मान को बरकरार रखने के लिए सब ताकत झोंकना पड़ेगा वही अब कांग्रेस पार्टी से इस्तीफा देकर भाजपा प्रवेश करने पर क्षेत्र में पिछड़ा वर्ग कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष चौलेश्वर चंद्राकर व प्रदेश उपाध्यक्ष चुन्नीलाल साहू की भारी किरकिरी हो रही है हालांकि यह राजनीति का बड़ा सा हिस्सा है अपने पार्टी को बदलकर कइयों ने इतिहास रचा है लेकिन सबके तकदीर एक जैसे नहीं हो सकता राजनीति का खेल में खुद की मेहनत और जन आधार पर लोग ऊंचाई तक जाते हैं नही तो चमकता सितारा गर्दिश में कब चला जाए किसी को हवा तक नही लगता फिर हाल जांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र के दो नेताओं की काफी किरकिरी करने लोग अपने आप को से नहीं रोक पा रहे हैं सोशल मीडिया और व्हाट्सएप में हो रही है खूब किरकिरी जैसे क्यो डाला परोसी का कचरा हमारे घर,तो कई ग्रुप में चाहे वो लोग कही रहे किसी पार्टी को फर्क नहीं पड़ेगा तो कही सत्ता के लालची वगैरा वगैरा हां इस किरकिरी पर बात भी सच्चाई की है 2009 अकलतरा से चुन्नी लाल साहू को अकलतरा से बसपा प्रत्याशी रहे सौरभ सिंह के हाथों शिकस्त मिली थी वही 2009में दिनेश सिंह के खिलाफ जीत का स्वाद चखा और पुनः 2018में भाजपा से चुनाव लड़ रहे सौरभ सिंह के खिलाफ हार मिला और लगातार चौथी बार टिकट के लिए आस जमाए बैठे लेकिन इस बार कांग्रेस ने टिकट नहीं दी जिससे नाराज होकर आधे मन से चुनावी मैदान पार्टी का कार्य करता रहा वही पार्टी के विश्वास का सूत्रों द्वारा पता चला कि कांग्रेस पार्टी के सट्टा चले जाने के बाद प्रदेश उपाध्यक्ष से प्रदेश अध्यक्ष की लालसा रख पार्टी पर बात रखी लेकिन पार्टी ने स्वीकार नहीं की और पुनः दीपक बैज को पीसीसी का अध्यक्ष चुन लिया जिससे नाराज होकर तत्काल अपने प्रदेश उपाध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया और अब लोकसभा चुनाव के नजदीक आते ही पार्टी बदलने का फैसला कर त्यागपत्र देकर बीजेपी में शामिल हो गए वही बात करें चौलेश्ववर चंद्राकर का तो 2003 मे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी की सैर करके आ चुके है घड़ी छाप से चुनाव लड़ा जिसमे जमानत जप्त हो गया था कांग्रेस पार्टी ने उन्हें समय समय पर कई बड़े बड़े पदों से नवाज़ा है प्रदेश कांग्रेस का सचिव बनाया उसके बाद जिला कांग्रेस कमेटी जांजगीर चाँपा के जिला अध्यक्ष के पद से नवाज़ा और जब जिला अध्यक्ष पद से हटे तो ओबीसी सेल से की जिम्मेदारी दी थी और अब कांग्रेस पार्टी के सभी पदों से त्याग पत्र देकर बीजेपी me शामिल हो गए हालांकि राजनीति महकमा में ये सब चलता रहता है कि कौन किस समय पार्टी बदल कर नए रास्ते तलाश ले यह कहा नही जा सकता पार्टी बदलना अब आम बात हो गई है यह वक्त की नजाकत ही है।

RELATED ARTICLES

Most Popular