Tuesday, June 18, 2024
HomeNewsजांजगीर-चांपा लोकसभा में कांग्रेस के 8 विधायक फिर भी इकलौती सभा में...

जांजगीर-चांपा लोकसभा में कांग्रेस के 8 विधायक फिर भी इकलौती सभा में बड़ी भीड़ जुटाने नाकामयाब

जांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र छत्तीसगढ़ के एक मात्र अ.जा.के लिए आरक्षित सीट है जिस पर दोनो राष्ट्रीय पार्टी बीजेपी और कांग्रेस जितने की जुगत में लगी है जिस पर आज हुए चांपा स्थित भालेराव मैदान में कांग्रेस प्रत्याशी के समर्थन में राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे व किसी भी बड़े नेताओं या स्टार प्रचारक का अब तक का एकमात्र सभा में भीड़ जुटाना लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस के आठ विधायक सहित नगर पालिका चांपा और जांजगीर नैला के अध्यक्ष भी जिम्मेदारी थी जहां अधिकतर जनप्रतिनिधि कांग्रेसी होने के बाद भी राष्ट्रीय कद के नेता के सम्मान अनुरूप भीड़ जुटाना नाकाम रही अब तक जांजगीर चांपा सीट कांग्रेस के लिए सबसे मजबूत माने जा रही थी जो कागजों में ही ढेर हो चुकी है यहां के विधायक प्रत्याशियों के आंखों में धूल झोंकते हुए अपनी जीत की दोहराने कि भरोसा देकर बीच मझधार में फसाने कोई कोर कसर नहीं छोड़ते दिख रहे है यह निश्चित रूप से कांग्रेस प्रत्याशी के लिए यह बड़ी चिंता का विषय है कांग्रेस पार्टी के आठ विधायक और कई नगर पालिका अध्यक्ष के बीच में इस तरह की बड़ी और इकलौती कांग्रेस की सभा में भीड़ इकट्ठा ना हो पाना कांग्रेस को जीत से दूर ले जाने की कगार पर पहुंचा दिया है कांग्रेस बचे हुए चंद दिनों में लोगों के बीच कैसे पहुंचे और अपने पक्ष में मतदाता को रिझाने कामयाब हो सके यह बड़ी चिंतन कांग्रेस पार्टी के लिए है एक तरफ आठ विधायक की इज्जत दांव में तो दूसरी तरफ पूर्व मंत्री डॉ शिवकुमार डहरिया इज्जत पूरी तरह गांव में लगी हुई है,

मल्लिकार्जुन खड़गे की लोकप्रियता जांजगीर चांपा में नहीं दिखी, 

राष्ट्रीय अध्यक्ष की भाषण शुरू होते ही कार्यकर्ता सहित आम लोग अपने बाहर जाने के रास्ते ताकते हुए धीरे-धीरे निकलने लगे और कुर्सियां खाली होते गई भाषण पूरा होने तक लगभग आधा से ज्यादा कुर्सी से लोग गायब हो चुके थे इससे स्पष्ट जाहिर होता है कि जांजगीर चांपा क्षेत्र में मल्लिकार्जुन खड़गे को सुनने वाले में दिलचस्पी बिल्कुल भी नहीं थी ऐसे में अब तक जांजगीर-चांपा लोकसभा क्षेत्र में कांग्रेस की इकलौती और बड़ी सभा होने की बाद भी भीड़ ना जुटा पाना विधायको की साख पर बट्टा लगाने जैसा है हालांकि जांजगीर चांपा विधायक व्यास कश्यप के सक्रियता और लोकप्रियता के कारण थोड़ी बहुत भीड़ इकट्ठा हो गए जिससे कांग्रेसियों के नाक बच गए ।

मुख्यमंत्री विष्णु देव जांजगीर चांपा लोकसभा क्षेत्र में विधानसभा वार लगातार सभाएं कर रहे हैं बावजूद हर सभा में भीड़ देखने लायक होती है ऐसे में कांग्रेसियों के पास भीड़ इकट्ठा करने की मंत्र की ताकत समाप्ति की ओर पहुंचने जैसी है,

सभा में 10 हजार कुर्सी लगने की बात कांग्रेसियों द्वारा बताई गई जिसमें भी पूरी तरह नहीं भर पाई वही लब रिपोर्ट की बात माने तो 6 से 8 हजार लोग होने की बात सामने आ रही है वास्तव में वहां देखने वाले ने अंदाजा आसानी से लगा लिए होंगे की वास्तविक भीड़ कितनी रही होगी,

कागज में मजबूत दिखने वाले विधायक निकले बड़ी कमजोर विधायकों की निष्क्रियता चुनाव जीतने के बाद से ही देखने को मिल रहे हैं कई विधायक के ऊपर क्षेत्र से गायब होने की बात कई गांव के ग्रामीणों द्वारा जिक्र किया जा रहा है की विधायक 3 महीने में ही लापता होने की कगार पर पहुंच गई है अब देखने वाली बात होगी कि चुनाव में उनके द्वारा जीत में पाए गए वोटो की आंकड़ा में साबित हो जाएगा कि वह कितने मतदाता के करीब है जिनको विधायको को चुने है।

राष्ट्रीय अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे के भाषण के दौरान कार्यकर्ता ही नहीं बल्कि मंच पर बड़े-बड़े बैठे नेताओं ने भी मोबाइल में गेम खेलना शुरू कर दिया था इससे अंदाजा लगाया जा सकता है की राष्ट्रीय अध्यक्ष की भाषण कितनी ऊबने वाला जैसा रहा होगा या युकहे कि प्रत्याशी को गड्ढे पर धकेल दो और हम तुम्हारे साथ हैं कह कर चिल्लाते रहो।

कुछ समय पहले जिला पंचायत अध्यक्ष के पति यशवंत चंद्रा का सोशल मीडिया में किए गए पोस्ट कांग्रेस प्रत्याशी को 2 लाख मतों से पीछे रहने का अनुमान लगाने वाले पोस्ट को अब तक कांग्रेस पार्टी अनर्गल मानती रही है कहीं वह सच ना हो जाए ।

RELATED ARTICLES

Most Popular