Un

किडनी व सिकलिन के मरीजों को बिलासपुर और कोरबा के चक्कर काटने से मिली मुक्ति माहभर में ही जिला चिकित्सालय में 250 से ज्यादा डायलिसिस किया गया।

ब्यूरो रिर्पोट जाज्वल्य न्यूज जांजगीर चांपा::जिला अस्पताल में डायलिसिस सेंटर खुलने से किडनी के रोगियों की परेशानी दूर हो गई है। मरीजो को बार बार बिलासपुर या कोरबा जाने के झंझट से मुक्ति मिल गई है। साथ ही डायलिसिस में होने वाले मंहगे खर्च से भी छुटकारा मिल गया है। डायसिस सेंटर में माहभर के अंदर हुई 250 सौ डायलिसिस हो चुके हैं स्वास्थ्य सुविधाओ की कमी से जूझ रहे जिले में धीरे धीरे सुविधाओ का विस्तार हो रहा है। जिला बनने के दो दशक बाद भी जिले में किडनी के मरीजों के लिए डायलिसिस सेंटर नहीं था। जिले के मरीजो को किडनी डायलिसिस के लिए कोरबा, बिलासपुर या रायपुर की दौड़ लगानी पड़ती थी जब से बैरिस्टर ठाकुर छेदीलाल जिला चिकित्सालय में डायलिसिस सेंटर खोला गया। डायलिसिस सेंटर में इस माह 250 सौ लोगो का डायलिसिस हो चुके हैं। जिला अस्पताल में मुफ्त में डायलिसिस की सुविधा मरीजों को मिल रही है। मरीजों को अब लंबी दूरी तय कर दूसरे जिलों की दौड़ नहीं लगानी पड़ रही है। इससे जहां मरीजों की शारिरीक परेशानी दूर हुई है, वहीं वाहन किराए का खर्च भी बच रहा है। प्राइवेट अस्पतालों में 15 सौ से 17 सौ रुपए तक एक बार की डायलिसिस में लगता था। मरीजो को सप्ताह में तीन बार डायलिसिस कराना पड़ता है। ऐसे में काफी खर्च आता था। जिला अस्पताल में डायलिसिस सेंटर खुलने से अब मुफ्त में डायलिसिस हो रहा है। जिला चिकित्सालय में 5 डायलिसिस मशीन लगाई गई है। और आज तक 250 लोगो डायलिसिस किया जा चुका है एक मरीज को सप्ताह में 3 डायलिसिस की जरूरत होती है। नीतीश कुमार श्रीवास डायलिसिस इंचार्ज ने बताया प्रति माह 250 डायलिसिस की सुविधा जिले के मरीजों को मिल सकती है जिला अस्पताल के डायलिसिस सेंटर में माहभर के अंदर 250 सौ डायलिसिस की जा चुकी है। किडनी के मरीज अपना चेकअप कराकर डायलिसिस सेंटर की सुविधा का लाभ लें। मरीजों के जरूरी मेडिसीन के लिए भी प्रयास किया जा रहा है।

jajwalyanews

देश में तेजी से बढ़ती हुई हिंदी समाचार वेबसाइट है। जो हिंदी न्यूज साइटों में सबसे अधिक विश्वसनीय, प्रमाणिक और निष्पक्ष समाचार अपने पाठक वर्ग तक पहुंचाती है।

Related Articles

Back to top button